ज्ञानवापी मामला जाएगा सऊदी अरब के मक्का इमाम के पास, काशी ध’र्म परिषद की बैठक में..

ज्ञानवापी म’स्जि’द का विवा’द थमने का नाम नहीं ले रहा है। आपको बता दें कि लगा तार सनातन धर्म से जुड़े साघु संतों ने ज्ञान वापी परिसर और काशी विश्वनाथ घाम को लेकर अपनी मांग रख दी है। ज्ञान वापी म’स्जिद के वजु खाने में शिवलिंग मिलने के दावे के बाद शुक्रवार को काशी में घर्म परिषद की बैठक हुई। लगा तार मांग कर रहे हैं।

वो मांग कर रहे हैं कथित शिव’लिंग की पुजा और नमाज पढ़ने पर रोक लगाने की मांग कर रहे हैं। इसके अलावा संत परिषद ने मु’स्लिम धर्म गुरु से अपील की वो सनातन धर्म के प्रमुख आस्था के केन्द्र पर से अपना दावा छोड़ दें। इसके अलावा मक्का और मदीना के इमामों को भी पत्र भेजा जाएगा। जहां ये बताया जाएगा कि किस तरह औरंगाबाद द्वारा काशी के मंदिरों के विघ्वसं के इतिहास को बताया जाएगा।घर्म परिषद में इस बात को जबरदस्त मांग कर रहे हैं कि इन म’स्जिदों को औरंगजेब ने तुड़वाया था। जिसके बाद पुजा करने की इजाजत दी जाए। ज्ञान वापी म’स्जिद के वजु खाने में जो स्वयंभू आदि विश्वेश्वर का शिव लिंग मिला है। वहां पर तत्काल ही पुजा पाठ की इजाजत दी जाए। इसके अलावा पाताल पूरी के मठ के महंत बालक दास ने बताया कि,

जैसे इसाइयों के लिए वेटिकन सिटी और मुस्लिमों के लिए मक्का मदीना है। उसी तरह सनातन धर्म के लिए काशी है। जिस तरह मक्का मस्जिद के 25 किलो मीटर आस पास गैर मुस्लिम नहीं आ सकते।वेटिकन सिटी में गैर किश्चिन नहीं आ सकते उसी तरह काशी में भी ये नियम लागू हो। दर असल यह मामला अब काफी तूल पकड़ता हुआ दिखाई दे रहा है और पूरे देश में इसे लेकर काफी चर्चा हो रही है। फिलहाल यह मामला कोर्ट में चल रही है और जांच चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.